नया साल (Naya Saal)

नया साल आने को है
गया साल जाने को है
देश बदल रहा कुछ ऐसे
लगता है शायद अब
ख़ुशहाली आने को है

वैचारिक मतभेदों का आओ
हम सब सम्मान करें
रिश्तों में कटुता का मिलकर
हम सब तिरस्कार करें
सर्वे भवन्तु सुखिन: तभी लगेगा
कि साकार होने को है

स्वच्छ भारत और निश्छल मन
करने का प्रण ले लें
पेड़ बढ़ाएँ पर पंथवादियों
को चेतावनी दे दें
देश मेरा है जवान, जीर्ण धारणाएँ
यहाँ से जाने को हैं

है मेरी ये दुआ, मिले आपको वो सब
जिसकी आप चाह करें
बढ़े समृद्धि, घटे व्याधि
आप जगत कल्याण करें
नया वर्ष लाए वो मंजर जिसमें
घर घर में खाने को है

नया साल आने को है
गया साल जाने को है
देश बदल रहा कुछ ऐसे
लगता है शायद अब
ख़ुशहाली आने को है

naya saal aane ko hai
gaya saal jaane ko hai
desh badal raha kuchh aise
lagta hai shaayad ab
khushahaalee aane ko hai

vaichaarik matbhedon ka aao
ham sab sammaan karen
rishton mein katuta ka milkar
ham sab tiraskaar karen
sarve bhavantu sukhin: tabhi lagega
ki saakaar hone ko hai

swachchh bhaarat aur nishchhal man
karane ka pran le len
ped badhaen par panthavaadiyon
ko chetaavanee de den
desh mera hai jawaan, jeern dhaarnaen
yahaan se jaane ko hain

hai meri ye dua, mile aapko vo sab
jiski aap chaah karen
badhe samraddhi, ghate vyaadhi
aap jagat kalyaan karen
naya varsh lae vo manjar jismein
ghar ghar mein khaane ko hai

naya saal aane ko hai
gaya saal jaane ko hai
desh badal raha kuchh aise
lagta hai shaayad ab
khushahaalee aane ko hai

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s