मानव आचार मेरा प्रमाण हो (Maanav Aachaar Mera Pramaan Ho)

परख के मैंने गोरा देखा
काला देखा, पीला देखा
और देखा साँवला भी
रंग लहू का लाल ही देखा

परख के मैंने ब्राह्मण देखा
शूद्र देखा, वैश्य देखा
और देखा क्षत्रिय भी
रंग लहू का लाल ही देखा

परख के मैंने कैथ्लिक देखा
सुन्नी देखा, शिया देखा
और देखा प्रॉटेस्टंट भी
रंग लहू का लाल ही देखा

फिर एक दिन मैंने रब से पूछा
क्यूँ तूने ये भेद किया?
जब लहू बनाया एक ही रंग का
काया में क्यूँ विच्छेद किया

करना ही था फ़र्क़ अगर तो
क्यूँ ऐसा ना ढंग किया?
लहू बनाकर विभिन्न रंगों का
काया को एक रंग दिया?

होता कभी भी ना जातिवादी
दिखता मनुष्य जो इकरंगी
फिर भले ही क्यूँ ना बनाते
रक्त, रगों का सतरंगी

वत्स सुनो मैं तुम्हें बताऊँ
अपने दिल का हाल सुनाऊँ
क्या सोचा और क्या हो गया
किसपे अपनी कुंठा जताऊँ?

सोचा था इस धरती पर
सौंदर्य का आकार होगा
मानव, मेरा अद्भुत सृजन
सृष्टि का शृंगार होगा

नहीं था मैं ये जानता
लहू का रंग भुला कर
करेगा काया पर ग़रूर
प्रबुद्ध को सुला कर

मेरा ही नाम ले कर
मेरी ही कृति का
करेगा तिरस्कार
नाम होगा भक्ति का

अब तो यही दुआ मैं माँगता
मेरी सृष्टि का पुनः निर्माण हो
कृपालु बनें इंसान सभी
मानव आचार मेरा प्रमाण हो
parakh ke maine gora dekha
kaala dekha, peela dekha
aur dekha saanvala bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

parakh ke maine brahman dekha
shudra dekha, vaishya dekha
aur dekha kshatriya bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

parakh ke mainne catholic dekha
sunni dekha, shia dekha
aur dekha protestant bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

phir ek din maine rab se poochha
kyoon toone ye bhed kiya?
jab lahoo banaya ek hee rang ka
kaaya mein kyun vichchhed kiya

karna hee tha farq agar to
kyoon aisa na dhang kiya?
lahoo banakar vibhinn rangon ka
kaaya ko ek rang diya?

hota kabhi bhi na jaativaadi
dikhta manushya jo ikrangi
phir bhale hee kyun na banate
rakt, rangon ka satrangi

vats suno main tumhe bataun
apne dil ka haal sunaun
kya socha aur kya ho gaya
kispe apni kuntha jataun?

socha tha is dhartee par
saundarya ka aakaar hoga
maanav, mera adbhut srujan
srishti ka shringaar hoga

nahin tha main ye jaanta
lahoo ka rang bhula kar
karega kaaya par garur
prabuddh ko sula kar

mera hee naam le kar
meri hee kruti ka
karega tiraskaar
naam hoga bhakti ka?

ab to yahi dua main mangta
meri srishti ka punah nirmaan ho
krpaalu bane insaan sabhee
maanav aachaar mera pramaan ho

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s