होली (Holi)

राधा के संग कृष्ण बिहारी
खेले मस्त होली त्रिपुरारी
फाल्गुन मास की बेला
हर तरफ़ रंगो का मेला
भर लीन्ही हमहूँ पिचकारी

भर लीन्ही हमहूँ पिचकारी
रंग डारी सबहुँ नर नारी
फिर बाँध के गंडा
मेहरारू उठायीं डंडा
बिना रंग के लाल कर डारीं
radha ke sang krshn bihari
khele mast holi tripurari
phalgun maas kee bela
har taraf rango ka mela
bhar leenhee hamahoon pichkari

bhar leenhee hamahoon pichkari
rang daaree sabahun nar naari
phir baandh ke ganda
meharaaroo uthaayeen danda
bina rang ke laal kar daareen

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

नव वर्ष (Nav Varsh)

बादल हैं काले काले
बरखा है गीली गीली
नव वर्ष की बेला में
तेरी गालियाँ बड़ी रंगीली।

झूम झूम सब नाचो गाओ
ख़ुशियाँ भी जी भर मनाओ
संग सभी का लाए गरमी
चाहे सर्दी कितनी बर्फ़ीली।

जीवन है एक माया जाल
चढ़ी है इस पर मोटी छाल
गुज़र रही कुछ ऐसे जैसे
नीव-नाँव सब ढीली ढीली।

साल नया अब आएगा
नए संकल्प बनवाएगा
भूलेंगे हम इनकी दृढ़ता
आगमन पूर्व बसंत सुरीली।

नव वर्ष की सबको बधाई
ख़ूब बढ़ो आगे मेरे भाई
पूरी हो तेरी हर इक्षा
भरी रहे ख़ुशियों से झोली।
baadal hain kaale kaale
barkha hai geelee geelee
nav varsh kee bela mein
teree galiyaan badee rangeelee.

jhoom jhoom sab naacho gao
khushiyaan bhee jee bhar manao
sang sabhee ka laye garmee
chaahe sardee kitnee barfeelee.

jeevan hai ek maaya jaal
chadhee hai is par motee chhaal
guzar rahee kuchh aise jaise
neev-naanv sab dheelee dheelee.

saal naya ab aaega
naye sankalp banvaega
bhoolenge ham inkee dradhta
aagman poorv basant sureelee.

nav varsh kee sabko badhayi
khoob badho aage mere bhayi
pooree ho teree har iksha
bharee rahe khushiyon se jholee.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

मातृभाषा (Matrbhasha)

अपनी भाषा मातृभाषा क्यों कहलाती है
यह वो भाषा है जो माँ पहले सिखाती है
अगर कोई मातृभाषा भूले
फिर भले ही गगन छूले
ऐसी ऊँचाई ही क्या जो माँ को भुला जाती है
apni bhasha matrbhasha kyon kahlati hai
ye vo bhasha hai jo maa pahle sikhati hai
agar koi matrbhasha bhoole
phir bhale hee gagan chhoole
aisi oonchaee hee kya jo maa ko bhula- 
jaati hai

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

रिश्ते (Rishte)

फटी जेब से गिर जाएँ जो
उन रिश्तों का गिरना ही बेहतर
फटी जेब को सिल जाएँ जो
उन रिश्तों को रखना सहेजकर।
phatee jeb se gir jaen jo 
un rishton ka girna hee behatar
phatee jeb ko sil jaen jo 
un rishton ko rakhana sahejakar.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

होली की उमंग (Holi Ki Umang)

होली ने कर दिया मलँग
मच गयी चहुं ओर हुड़दंग
हमरे भी दिल में जागी
बड़ी ज़ोर से एक उमंग।

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें होली साली संग
पत्नि पढ़ ली हमार मन
पड़ी लताड़ दुखे पूरा तन
दौड़ी ४४० वोल्ट की तरंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें गुलाल सलहज के संग
भार्या गयिन भाँप
लगाहिन इक कंटाप
उतार दिहिन हमरी सब भंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें रंग भौजायी संग
जोरू कर लिहिन महसूस
पीछे लगाय दिहिन जासूस
कर दिहिन हमार होली बेरंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें फाग मेहरारू के संग
सुन के मेहरारू गयिन झूम
मिल ख़ूब मचायिन धूम
होली में हमहूँ गयिन रंग। 

होली ने कर दिया मलँग
मच गयी चहुं ओर हुड़दंग।
holi ne kar diya malang
mach gayee chahun or huddang
hamare bhee dil mein jaagee
badee zor se ek umang.

jaagee zor se ye umang
khelen holi saalee sang
patni padh lee hamaar man
padee lataad dukhe poora tan
daudee 440 volt kee tarang.

jaagee zor se ye umang
khelen gulaal salahaj ke sang
bhaarya gayin bhaanp
lagaahin ik kantaap
utaar dihin hamaree sab bhang.

jaagee zor se ye umang
khelen rang bhaujaayee sang
joroo kar lihin mahasoos
peechhe lagaay dihin jaasoos
kar dihin hamaar holi berang.

jaagee zor se ye umang
khelen phaag meharaaroo ke sang
sun ke meharaaroo gayin jhoom
mil khoob machaayin dhoom
holi mein hamahoon gayin rang.

holi ne kar diya malang
mach gayee chahun or huddang.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)