नव वर्ष (Nav Varsh)

बादल हैं काले काले
बरखा है गीली गीली
नव वर्ष की बेला में
तेरी गालियाँ बड़ी रंगीली।

झूम झूम सब नाचो गाओ
ख़ुशियाँ भी जी भर मनाओ
संग सभी का लाए गरमी
चाहे सर्दी कितनी बर्फ़ीली।

जीवन है एक माया जाल
चढ़ी है इस पर मोटी छाल
गुज़र रही कुछ ऐसे जैसे
नीव-नाँव सब ढीली ढीली।

साल नया अब आएगा
नए संकल्प बनवाएगा
भूलेंगे हम इनकी दृढ़ता
आगमन पूर्व बसंत सुरीली।

नव वर्ष की सबको बधाई
ख़ूब बढ़ो आगे मेरे भाई
पूरी हो तेरी हर इक्षा
भरी रहे ख़ुशियों से झोली।
baadal hain kaale kaale
barkha hai geelee geelee
nav varsh kee bela mein
teree galiyaan badee rangeelee.

jhoom jhoom sab naacho gao
khushiyaan bhee jee bhar manao
sang sabhee ka laye garmee
chaahe sardee kitnee barfeelee.

jeevan hai ek maaya jaal
chadhee hai is par motee chhaal
guzar rahee kuchh aise jaise
neev-naanv sab dheelee dheelee.

saal naya ab aaega
naye sankalp banvaega
bhoolenge ham inkee dradhta
aagman poorv basant sureelee.

nav varsh kee sabko badhayi
khoob badho aage mere bhayi
pooree ho teree har iksha
bharee rahe khushiyon se jholee.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)