मानव आचार मेरा प्रमाण हो (Maanav Aachaar Mera Pramaan Ho)

परख के मैंने गोरा देखा
काला देखा, पीला देखा
और देखा साँवला भी
रंग लहू का लाल ही देखा

परख के मैंने ब्राह्मण देखा
शूद्र देखा, वैश्य देखा
और देखा क्षत्रिय भी
रंग लहू का लाल ही देखा

परख के मैंने कैथ्लिक देखा
सुन्नी देखा, शिया देखा
और देखा प्रॉटेस्टंट भी
रंग लहू का लाल ही देखा

फिर एक दिन मैंने रब से पूछा
क्यूँ तूने ये भेद किया?
जब लहू बनाया एक ही रंग का
काया में क्यूँ विच्छेद किया

करना ही था फ़र्क़ अगर तो
क्यूँ ऐसा ना ढंग किया?
लहू बनाकर विभिन्न रंगों का
काया को एक रंग दिया?

होता कभी भी ना जातिवादी
दिखता मनुष्य जो इकरंगी
फिर भले ही क्यूँ ना बनाते
रक्त, रगों का सतरंगी

वत्स सुनो मैं तुम्हें बताऊँ
अपने दिल का हाल सुनाऊँ
क्या सोचा और क्या हो गया
किसपे अपनी कुंठा जताऊँ?

सोचा था इस धरती पर
सौंदर्य का आकार होगा
मानव, मेरा अद्भुत सृजन
सृष्टि का शृंगार होगा

नहीं था मैं ये जानता
लहू का रंग भुला कर
करेगा काया पर ग़रूर
प्रबुद्ध को सुला कर

मेरा ही नाम ले कर
मेरी ही कृति का
करेगा तिरस्कार
नाम होगा भक्ति का

अब तो यही दुआ मैं माँगता
मेरी सृष्टि का पुनः निर्माण हो
कृपालु बनें इंसान सभी
मानव आचार मेरा प्रमाण हो
parakh ke maine gora dekha
kaala dekha, peela dekha
aur dekha saanvala bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

parakh ke maine brahman dekha
shudra dekha, vaishya dekha
aur dekha kshatriya bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

parakh ke mainne catholic dekha
sunni dekha, shia dekha
aur dekha protestant bhee
rang lahoo ka laal hee dekha

phir ek din maine rab se poochha
kyoon toone ye bhed kiya?
jab lahoo banaya ek hee rang ka
kaaya mein kyun vichchhed kiya

karna hee tha farq agar to
kyoon aisa na dhang kiya?
lahoo banakar vibhinn rangon ka
kaaya ko ek rang diya?

hota kabhi bhi na jaativaadi
dikhta manushya jo ikrangi
phir bhale hee kyun na banate
rakt, rangon ka satrangi

vats suno main tumhe bataun
apne dil ka haal sunaun
kya socha aur kya ho gaya
kispe apni kuntha jataun?

socha tha is dhartee par
saundarya ka aakaar hoga
maanav, mera adbhut srujan
srishti ka shringaar hoga

nahin tha main ye jaanta
lahoo ka rang bhula kar
karega kaaya par garur
prabuddh ko sula kar

mera hee naam le kar
meri hee kruti ka
karega tiraskaar
naam hoga bhakti ka?

ab to yahi dua main mangta
meri srishti ka punah nirmaan ho
krpaalu bane insaan sabhee
maanav aachaar mera pramaan ho

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

होली (Holi)

राधा के संग कृष्ण बिहारी
खेले मस्त होली त्रिपुरारी
फाल्गुन मास की बेला
हर तरफ़ रंगो का मेला
भर लीन्ही हमहूँ पिचकारी

भर लीन्ही हमहूँ पिचकारी
रंग डारी सबहुँ नर नारी
फिर बाँध के गंडा
मेहरारू उठायीं डंडा
बिना रंग के लाल कर डारीं
radha ke sang krshn bihari
khele mast holi tripurari
phalgun maas kee bela
har taraf rango ka mela
bhar leenhee hamahoon pichkari

bhar leenhee hamahoon pichkari
rang daaree sabahun nar naari
phir baandh ke ganda
meharaaroo uthaayeen danda
bina rang ke laal kar daareen

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

नव वर्ष (Nav Varsh)

बादल हैं काले काले
बरखा है गीली गीली
नव वर्ष की बेला में
तेरी गालियाँ बड़ी रंगीली।

झूम झूम सब नाचो गाओ
ख़ुशियाँ भी जी भर मनाओ
संग सभी का लाए गरमी
चाहे सर्दी कितनी बर्फ़ीली।

जीवन है एक माया जाल
चढ़ी है इस पर मोटी छाल
गुज़र रही कुछ ऐसे जैसे
नीव-नाँव सब ढीली ढीली।

साल नया अब आएगा
नए संकल्प बनवाएगा
भूलेंगे हम इनकी दृढ़ता
आगमन पूर्व बसंत सुरीली।

नव वर्ष की सबको बधाई
ख़ूब बढ़ो आगे मेरे भाई
पूरी हो तेरी हर इक्षा
भरी रहे ख़ुशियों से झोली।
baadal hain kaale kaale
barkha hai geelee geelee
nav varsh kee bela mein
teree galiyaan badee rangeelee.

jhoom jhoom sab naacho gao
khushiyaan bhee jee bhar manao
sang sabhee ka laye garmee
chaahe sardee kitnee barfeelee.

jeevan hai ek maaya jaal
chadhee hai is par motee chhaal
guzar rahee kuchh aise jaise
neev-naanv sab dheelee dheelee.

saal naya ab aaega
naye sankalp banvaega
bhoolenge ham inkee dradhta
aagman poorv basant sureelee.

nav varsh kee sabko badhayi
khoob badho aage mere bhayi
pooree ho teree har iksha
bharee rahe khushiyon se jholee.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

नए दोस्त बनाना मुश्किल है (Naye Dost Banaana Mushkil Hai)

अपने मित्रों की संख्या को
अब और बढ़ाना मुश्किल है,
स्मार्ट-फ़ोन की दुनिया में
नए दोस्त बनाना मुश्किल है।

सुबह शाम जब सैर को 
बाग़ीचे में जाते थे,
सैर सपाटे संग राह में 
मित्र नए बन जाते थे,
आकर्णक भर कानों में 
सैर सभी अब करते हैं,
बातें करना तो दूर 
नज़रें मिलाना मुश्किल है,
स्मार्ट-फ़ोन की दुनिया में 
नए दोस्त बनाना मुश्किल है।

बच्चों संग उनकी तैराकी 
कक्षा में जब जाते थे,
बैठ प्रतीक्षालय में 
नए-नए लोगों से बतियाते थे,
बातें करते-करते ही 
नए मित्र कई बन जाते थे,
सोशल-मीडिया अचेतों से 
बतियाना अब मुश्किल है,
स्मार्ट-फ़ोन की दुनिया में 
नए दोस्त बनाना मुश्किल है।

एक तरफ़ है होड़ लगी 
मित्र-सूची ख़ूब बढ़ाने की,
दूजी ओर है आदत यह 
असल मित्रों को घटाने की,
व्हाट्सऐप पर करते कोशिश 
हरदम ज्ञान बाँटने की,
चैट पर हैं बातें बहुत 
साक्षात करना अब मुश्किल है,
स्मार्ट-फ़ोन की दुनिया में 
नए दोस्त बनाना मुश्किल है।

अपने मित्रों की संख्या को 
अब और बढ़ाना मुश्किल है,
स्मार्ट-फ़ोन की दुनिया में
नए दोस्त बनाना मुश्किल है।
apne mitron kee sankhya ko
ab aur badhaana mushkil hai,
smart-phone kee duniya mein
naye dost banaana mushkil hai.

subah shaam jab sair ko
baageeche mein jaate the,
sair sapaate sang raah mein
mitr naye ban jaate the,
aakarnak bhar kaanon mein
sair sabhee ab karate hain,
baaten karana to door
nazrein milaana mushkil hai,
smart-phone kee duniya mein
naye dost banaana mushkil hai.

bachchon sang unkee tairaakee
kaksha mein jab jaate the,
baith prateekshaalay mein
naye-naye logon se batiyaate the,
baatein karte-karte hee
naye mitr kayi ban jaate the,
social-media acheton se
batiyaana ab mushkil hai,
smart-phone kee duniya mein
naye dost banaana mushkil hai.

ek taraf hai hod lagee
mitr-soochee khoob badhaane kee,
doojee or hai aadat yah
asal mitron ko ghataane kee,
WhatsApp par karte koshish
hardam gyaan baantane kee,
chat par hain baaten bahut
saakshaat karna ab mushkil hai,
smart-phone kee duniya mein
naye dost banaana mushkil hai.

apne mitron kee sankhya ko
ab aur badhaana mushkil hai,
smart-phone kee duniya mein
naye dost banaana mushkil hai.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

मातृभाषा (Matrbhasha)

अपनी भाषा मातृभाषा क्यों कहलाती है
यह वो भाषा है जो माँ पहले सिखाती है
अगर कोई मातृभाषा भूले
फिर भले ही गगन छूले
ऐसी ऊँचाई ही क्या जो माँ को भुला जाती है
apni bhasha matrbhasha kyon kahlati hai
ye vo bhasha hai jo maa pahle sikhati hai
agar koi matrbhasha bhoole
phir bhale hee gagan chhoole
aisi oonchaee hee kya jo maa ko bhula- 
jaati hai

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

रिश्ते (Rishte)

फटी जेब से गिर जाएँ जो
उन रिश्तों का गिरना ही बेहतर
फटी जेब को सिल जाएँ जो
उन रिश्तों को रखना सहेजकर।
phatee jeb se gir jaen jo 
un rishton ka girna hee behatar
phatee jeb ko sil jaen jo 
un rishton ko rakhana sahejakar.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

होली की उमंग (Holi Ki Umang)

होली ने कर दिया मलँग
मच गयी चहुं ओर हुड़दंग
हमरे भी दिल में जागी
बड़ी ज़ोर से एक उमंग।

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें होली साली संग
पत्नि पढ़ ली हमार मन
पड़ी लताड़ दुखे पूरा तन
दौड़ी ४४० वोल्ट की तरंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें गुलाल सलहज के संग
भार्या गयिन भाँप
लगाहिन इक कंटाप
उतार दिहिन हमरी सब भंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें रंग भौजायी संग
जोरू कर लिहिन महसूस
पीछे लगाय दिहिन जासूस
कर दिहिन हमार होली बेरंग। 

जागी ज़ोर से ये उमंग
खेलें फाग मेहरारू के संग
सुन के मेहरारू गयिन झूम
मिल ख़ूब मचायिन धूम
होली में हमहूँ गयिन रंग। 

होली ने कर दिया मलँग
मच गयी चहुं ओर हुड़दंग।
holi ne kar diya malang
mach gayee chahun or huddang
hamare bhee dil mein jaagee
badee zor se ek umang.

jaagee zor se ye umang
khelen holi saalee sang
patni padh lee hamaar man
padee lataad dukhe poora tan
daudee 440 volt kee tarang.

jaagee zor se ye umang
khelen gulaal salahaj ke sang
bhaarya gayin bhaanp
lagaahin ik kantaap
utaar dihin hamaree sab bhang.

jaagee zor se ye umang
khelen rang bhaujaayee sang
joroo kar lihin mahasoos
peechhe lagaay dihin jaasoos
kar dihin hamaar holi berang.

jaagee zor se ye umang
khelen phaag meharaaroo ke sang
sun ke meharaaroo gayin jhoom
mil khoob machaayin dhoom
holi mein hamahoon gayin rang.

holi ne kar diya malang
mach gayee chahun or huddang.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)