चरित्र तेरा लाल है (Charitra Tera Laal Hai)

चरित्र तेरा लाल है
रूह को मलाल है
बहाया जो ख़ून तूने
नहीं वो गुलाल है।

कभी नाम धर्म का
कभी नाम जाती का
कभी फ़र्क़ प्रदेश का
शांति प्रिय देश में
हर तरफ़ बवाल है
चरित्र तेरा लाल है।

अगर राम सत हैं
ख़ुदा तेरे चित में हैं
तो ख़ौफ़ क्यूँ तुझे है?
मिटा सके इन्हें कोई
किसी की क्या मज़ाल है
चरित्र तेरा लाल है।

पशु नहीं, इंसान तू
शिष्टता की पहचान तू
क्या कोई ठेकेदार तू?
समस्त जीव जन्तु में
तेरी नहीं मिसाल है
चरित्र तेरा लाल है।

समय यही प्रशस्त है
सुधर जा तू समर्थ है
करता तू जीवन व्यर्थ है
सुधर न गर सका तो
प्रारब्ध तेरा काल है
चरित्र तेरा लाल है।
charitra tera laal hai
rooh ko malaal hai
bahaaya jo khoon toone
nahin vo gulaal hai.

kabhee naam dharm ka
kabhee naam jaatee ka
kabhee farq pradesh ka
shaanti priy desh mein
har taraf bavaal hai
charitra tera laal hai.

agar raam sat hain
khuda tere chit mein hain
to khauf kyoon tujhe hai?
mita sake inhen koee
kisee kee kya mazaal hai
charitra tera laal hai.

pashu nahin, insaan too
shishtata kee pahchaan too
kya koee thekedaar too?
samast jeev jantu mein
teree nahin misaal hai
charitra tera laal hai.

samay yahee prashast hai
sudhar ja too samarth hai
karta too jeevan vyarth hai
sudhar na gar saka to
praarabdh tera kaal hai
charitra tera laal hai.

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s