देस यात्रा (Des Yatra)

देस यात्रा बड़ी महेंगी भाई
पर आनंद दे पूरा सवाई

चढ़े प्लेन में ताजे ताजे
पहुंचे बजवाके अपने बाजे

मिलके घरवालों से थकान मिटाई
लगे तोड़ने नमकीन और मिठाई

शुरू हुआ सबसे मिलना मिलाना
एक एक दिन में 2-2 डिनर खाना

ख़रीदारी का तो ना ही करें चर्च
सुबह से शाम खर्चा ही खर्चा

फ़ेसबुक से पुराने जानकार लिए खोज
मिले दोस्त, रिश्ते व नातेदार हर रोज

दिन गुजरे आया दिन लौटने का
बढ़ने लगा टेंशन पैकिंग करने का

जानते हैं की यहाँ सब सामान मिलता है
पर देस से भर के लाने का मज़ा अपना है

लो जी भर लिए अधिकतम सूटकेस
चलते चलते भी लगी रही तोहफों की रेस

यादों की एक और बारात ले कर पहुंचे परदेस
सच तो यही है की अब यही तो है अपना देस
des yatra badi mahengi bhai
par anand de poora savayi

chadhe plane mein taaje taaje
pahunche bajvaake apne baaje

milke gharvalon se thakan mitayi
lage todne namkeen aur mithayi

shuru hua sabse milna milana
ek ek din mein 2-2 dinner khana

kharidari ka to na hee karein charcha
subah se shaam kharcha hee kharcha

facebook se purane jankaar liye khoj
mile dost, rishte va naatedaar har roj

din gujre aaya din lautane ka
badhne laga tension packing karne ka

jaante hain ki yahan sab saman milta hai
par des se bhar ke lane ka maza apna hai

lo jee bhar liye adhiktam suitcase
chalte chalte bhi lagi rahi tohfo ki race

yadon ki ek aur barat lekar pahunche-
pardes
sach to yahi hai ki ab yahi to hai apna des

मनीष कुमार श्रीवास्तव (Maneesh Kumar Srivastava)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s